Tag Archives: भवानीप्रसाद

देश की माटी ,देश का जल/रवीन्द्रनाथ ठाकुर/अनु. भवानीप्रसाद मिश्र

देश की माटी देश का जल

हवा देश की देश के फल

सरस बनें प्रभु सरस बने

देश के घर और देश के घाट

देश के वन और देश के बाट

सरल बनें प्रभु सरल प्रभु

देश के तन और देश के मन

देश के घर के भाई -बहन

विमल बनें प्रभु विमल बनें

– रवीन्द्रनाथ ठाकुर /अनुवाद- भवानीप्रसाद मिश्र

5 टिप्पणियाँ

Filed under भवानी प्रसाद मिश्र, रवीन्द्रनाथ ठाकुर ravindranath tagore, hindi poems, poem

दोनों मूरख , दोनों अक्खड़ / भवानीप्रसाद मिश्र

चलो भाई चारे को बोओ

अक्कड मक्कड ,
धूल में धक्कड,
दोनों मूरख,
दोनों अक्खड,
हाट से लौटे,
ठाट से लौटे,
एक साथ एक बाट से लौटे .

बात बात में बात ठन गयी,
बांह उठीं और मूछें तन गयीं.
इसने उसकी गर्दन भींची,
उसने इसकी दाढी खींची.
अब वह जीता,अब यह जीता;
दोनों का बढ चला फ़जीता;
लोग तमाशाई जो ठहरे –
सबके खिले हुए थे चेहरे !

मगर एक कोई था फक्कड,
मन का राजा कर्रा – कक्कड;
बढा भीड को चीर-चार कर
बोला ‘ठहरो’ गला फाड कर.

अक्कड मक्कड ,
धूल में धक्कड,
दोनों मूरख,
दोनों अक्खड,
गर्जन गूंजी,रुकना पडा,
सही बात पर झुकना पडा !

उसने कहा सधी वाणी में,
डूबो चुल्लू भर पानी में;
ताकत लडने में मत खोऒ
चलो भाई चारे को बोऒ!

खाली सब मैदान पडा है,
आफ़त का शैतान खडा है,
ताकत ऐसे ही मत खोऒ,
चलो भाई चारे को बोऒ.
-भवानी प्रसाद मिश्र

 कुछ अन्य बाल कविताएं :

चार कौए उर्फ चार हौए

सूरज का गोला

तब कैसा मौसम ठंडा जी – राजेन्द्र राजन

जुगनू : अल्लामा इक़बाल की बाल कविता

नल की हडताल

  साभार : अनहदनाद


5 टिप्पणियाँ

Filed under भवानी प्रसाद मिश्र, nursery rhymes , kids' poetry