Category Archives: gandhi

‘भारतीय जनता की मां को श्रद्धांजलि / सुभाषचन्द्र बोस’

पिछले साल किसी ने भारत सरकार से पूछा ,’भारत का कोई राष्ट्रपिता भी है ?’ अधिकारिक तौर पर जवाब मिला कि सरकार ने ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया। सरकार के जवाब से उत्साहित होकर कुछ लोगों ने इसका खूब प्रचार किया । सरकार अगर प्रश्नकर्ता को सही जवाब देना चाहती तो उसे राष्ट्रीय आन्दोलन की दो विभूतियों को तरजीह देनी पड़ती। पहले व्यक्ति वे जिन्होंने किसी को राष्ट्रपिता कहा और दूसरे वे जिन्हें यह संबोधन दिया गया।
नेताजी सुभाषचन्द्र बोस ने बर्मा से राष्ट्र के नाम रेडियो-प्रसारण में ‘चलो दिल्ली’ का आवाहन किया और वैसे ही एक प्रसारण में गांधीजी को राष्ट्रपिता कह कर संबोधित किया। यहां नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का २२ फरवरी का बयान पुनर्प्रकाशित कर रहा हूं। इस बयान में उन्होंने कस्तूरबा को ‘भारतीय जनता की मां’ कहा है।
(२२ फरवरी , १९४४ को श्रीमती कस्तूरबा गांधी के निधन पर दिया गया वक्तव्य)

    श्रीमती कस्तूरबा गांधी नहीं रहीं । ७४ वर्ष की आयु में पूना में अंग्रेजों के कारागार में उनकी मृत्यु हुई । कस्तूरबा की की मृत्यु पर देश के अड़तीस करोड़ अस्सी लाख और विदेशों में रहने वाले मेरे देशवासियों के गहरे शोक में मैं उनके साथ शामिल हूं । उनकी मृत्यु दुखद परिस्थितियों में हुई लेकिन एक गुलाम देश के वासी के लिए कोई भी मौत इतनी सम्मानजनक और इतनी गौरवशाली नहीं हो सकती । हिन्दुस्तान को एक निजी क्षति हुई है । डेढ़ साल पहले जब महात्मा गांधी पूना में बंदी बनाए गए तो उसके बाद से उनके साथ की वह दूसरी कैदी हैं , जिनकी मृत्यु उनकी आंखों के सामने हुई । पहले कैदी महादेव देसाई थे , जो उनके आजीवन सहकर्मी और निजी सचिव थे। यह दूसरी व्यक्तिगत क्षति है जो महात्मा गांधी ने अपने इस कारावास के दौरान झेला है ।
    इस महान महिला को जो हिन्दुस्तानियों के लिए मां की तरह थी , मैं अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और इस शोक की घड़ी में मैं गांधीजी के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं । मेरा यह सौभाग्य था कि मैं अनेक बार श्रीमती कस्तूरबा के संपर्क में आया और इन कुछ शब्दों से मैं उनके प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करना चाहूंगा । वे भारतीय स्त्रीत्व का आदर्श थीं , शक्तिशाली, धैर्यवान , शांत और आत्मनिर्भर। कस्तूरबा हिन्दुस्तान की उन लाखों बेटियों के लिए एक प्रेरणास्रोत थीं जिनके साथ वे रहती थीं और जिनसे वे अपनी मातृभूमि के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान मिली थीं । दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह के बाद से ही वे अपने महान पति के साथ परीक्षाओं और कष्टों में शामिल थीम और यह सामिप्य तीस साल तक चला । अनेक बार जेल जाने के कारण उनका स्वास्थ्य प्रभावित हुआ लेकिन अपने चौहत्तरवे वर्ष में भी उन्हें जेल जाने से जरा भी डर न लगा । महात्मा गांधी ने जब भी सविनय अवज्ञा आंदोलन चलाया,उस संघर्ष में कस्तूरबा पहली पंक्ति में उनके साथ खड़ी थीं हिन्दुस्तान की बेटियों के लिए एक चमकते हुए उदाहरण के रूप में और हिन्दुस्तान के बेटों के लिए एक चुनौती के रूप में कि वे भी हिन्दुस्तान की आजादी की लड़ाई में अपनी बहनों से पीछे नहीं रहें ।
    कस्तूरबा गांधी

    कस्तूरबा गांधी


    कस्तूरबा एक शहीद की मौत मरी हैं । चार महीने से अधिक समय से वे हृदयरोग से पीड़ित थीं । लेकिन हिन्दुस्तानी राष्ट्र की इस अपील को कि मानवता के नाते कस्तूरबा को खराब स्वास्थ्य के आधार पर जेल से छोड़ दिया जाए , हृदयहीन अंग्रेज सरकार ने अनसुना कर दिया । शायद अंग्रेज यह उम्मीद लगाए बैठे थे कि महात्मा गांधी को मानसिक पीड़ा पहुंचा कर वे उनके शरीर और आत्मा को तोड़ सकते थे और उन्हें आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर कर सकते थे । इन पशुओं के लिए मैं केवल अपनी घृणा व्यक्त कर सकता हूं जो दावा तो आजादी , न्याय और नैतिकता का करते हैं लेकिन असल में ऐसी निर्मम हत्या के दोषी हैं । वे हिन्दुस्तानियों को समझ नहीं पाए हैं । महात्मा गांधी या हिन्दुस्तानी राष्ट्र को अंग्रेज चाहे कितनी भी मानसिक पीड़ा या शारीरिक कष्ट दें , या देने की क्षमता रखें, वे कभी भी गांधीजी को अपने अडिग निर्णय से एक इंच भी पीछे नहीं हटा पाएंगे । महात्मा गांधी ने अंग्रेजों हिन्दुस्तान छोड़ने को कहा और एक आधुनिक युद्ध की विभीषिकाओं से इस देश को बचाने के लिए कहा । अंग्रेजों ने इसका ढिठाई और बदतमीजी से जवाब दिया और गांधीजी को एक सामान्य अपराधी की तरह जेल में ठूस दिया । वे और उनकी महान पत्नी जेल में मर जाने को तैयार थे लेकिन एक परतंत्र देश में जेल से बाहर आने को तैयार नहीं थे । अंग्रेजों ने यह तय कर लिया था कि कस्तूरबा जेल में अपने पति की आंखों के सामने हृदयरोग से दम तोड़ें । उनकी यह अपराधियों जैसी इच्छा पूरी हुई है , यह मौत हत्या से कम नहीं है । लेकिन देश और विदेशों में रहने वाले हम हिन्दुस्तानियों के लिए श्रीमती कस्तूरबा की दुखद मृत्यु एक भयानक चेतावनी है कि अंग्रेज एक-एक करके हमारे नेताओं को मारने का ह्रुदयहीन निश्चय कर चुके हैं। जब तक अंग्रेज हिन्दुस्तान में हैं , हमारे देश के प्रति उनके अत्याचार होते रहेंगे। केवल एक ही तरीका है जिससे हिन्दुस्तान के बेटे और बेटियां श्रीमती कस्तूरबा गांधी की मौत का बदला ले सकते हैं, और वह यह है कि अंग्रेजी साम्राज्य को हिन्दुस्तान से पूरी तरह नष्ट कर दें। पूर्वी एशिया में रहने वाले हिन्दुस्तानियों के कंधों पर यह एक विशेष उत्तरदायित्व है , जिन्होंने हिन्दुस्तान के अंग्रेज शासकों के खिलाफ सशस्त्र युद्ध छेड़ दिया है। यहां रहने वाले सभी बहनों का भी उस उत्तरदायित्व में भाग है । दुख की इस घड़ी में हम एक बार फिर उस पवित्र शपथ को दोहराते हैं कि हम अपना सशस्त्र संघर्ष तब तक जारी रखेंगे , जब तक अंतिम अंग्रेज को भारत से भगा नहीं दिया जाता ।
    (नेताजी संपूर्ण वांग्मय,पृ.१७७,१७८,टेस्टामेंट ऑफ सुभाष बोस, पृ. ६९-७० )

3 टिप्पणियां

Filed under कस्तूरबा गांधी, gandhi, Kasturba Gandhi, Uncategorized

भारत को इंगलैण्ड-अमरीका जैसा बनाने का मतलब/ गांधी

गांधी की कलम सेः

  1. “…..भारत को इंगलैण्ड और अमरीका के जैसा बनाने का मतलब है ऐसे नए देशों की तलाश करना जिनका शोषण किया जा सके । अभी तक तो लगता है कि पश्चिमी राष्ट्रों ने योरोप के बाहर के देशों का , शोषण के लिए , आपस में बंटवारा कर लिया है और तलाश किए जाने के लिए कोई देश नहीं बचे हैं । भारत द्वारा पश्चिम की अंधी नकल करने के प्रयास का क्या हश्र हो सकता है ? निश्चय ही पश्चिम में औद्योगीकरण और शोषण का बाहुल्य रहा है । जब जो लोग इस रोग से ग्रसित हैं वही इसका निदान नहीं कर सके हैं तो हम जैसे अनाड़ी इनसे बच सकने की आशा कैसे कर सकते हैं ?”….. यंग इण्डिया, 7-10-1927, पृष्ट (348) (अंग्रेजी से)
  2. ” ईश्वर न करे कि भारत में भी कभी पश्चिम जैसा औद्योगीकरण हो । एक छोटे टापू – देश ( इंगलैण्ड ) के आर्थिक साम्राज्यवाद ने ही सारे विश्व को बेड़ियों में जकड़ दिया है । अगर तीस करोड़ की जनसंख्या वाला पूरा राष्ट्र इस प्रकार के आर्थिक शोषण की राह पर चले तो वह सारे विश्व को चूस कर सुखा देगा । ” यंग इण्डिया , 20-122-1928, पृष्ट 422.
  3. ” पंडित नेहरू चाहते हैं कि औद्योगीकरण हो क्योंकि वह समझते हैं कि अगर इसका सामाजीकरण कर दिया जाए तो यह पूंजीवादी विकारों से मुक्त हो सकता है । मेरा अपना ख्याल है कि ये विकार औद्योगीकरण का ही हिस्सा हैं और किसी भी सीमा तक किया हुआ सामाजीकरण इनको समाप्त नहीं कर सकता । हरिजन , 29-9-1940,पृष्ट 299.

4 टिप्पणियां

Filed under gandhi

कोंकण-केरलम-आसमान / स्लाईड्स

‘ मातृभूमि ’ केरल का एक प्रमुख दैनिक है । केरल के नौ शहरों के अलावा यह मुम्बई , चेन्नै , बंगलूरू और दिल्ली से भी छपता है । ७५ वर्ष पूर्व महात्मा गांधी अपने केरल प्रवास के दौरान इस अखबार के दफ़्तर में आये थे । इस स्मृति को अखबार वर्ष पर्यन्त भिन्न भिन्न शहरों में मना रहा है । हर महीने की १३ तारीख को इसका आयोजन होता है । उस इलाके के स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान होता है और सभा होती है । १३ जनवरी ,२०१० इतिहासकार-लेखक श्री राजमोहन गांधी ने इस वर्ष पर्यन्त आयोजन का उद्घाटन किया ।
१३ फरवरी को कण्णूर में आयोजित जलसे में ’मातृभूमि’ ने मुझे बुलाया था । इस न्यौते को कबूलते हुए मैं गौरवान्वित महसूस कर रहा था। कण्णूर के टाउन हॉल में १९२४ से अब तक की ’मातृभूमि’ की यात्रा की एक प्रदर्शनी आयोजित थी । यह प्रदर्शनी एक अखबार के सफ़र के साथ साथ राष्ट्रीय आन्दोलन का जीवन्त दस्तावेज बन गई है ।
मातृभूमि के वर्तमान प्रबन्ध निदेशक श्री एम.पी. वीरेन्द्रकुमार कोज़िकोड़ के पूर्व सांसद हैं और एक समाजवादी नेता हैं । प्लाचीमाड़ा में कोका – कोला विरोधी संघर्ष के दौरान मेरा उनसे सम्पर्क हुआ था ।
मातृभूमि के इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम के अलावा समाजवादी जनपरिषद की केरल इकाई के साथियों ने कण्णूर और कोझिकोड जिले में मेरे कई कार्यक्रम आयोजित किए ।
सभी कार्यक्रमों की बाबत अलग – अलग पोस्ट लिखूंगा । यह चित्र प्रदर्शनी ’शैशव’ के लिए विशेष । कोंकण और केरल का सौन्दर्य तथा हवाई जहाज से देश – दर्शन करते वक्त मुझे लगा कि भूगोल की स्कूली पढ़ाई के कितने तथ्य इन दृश्यों से सगुण रूप से जज़्ब होते हैं । मालाबार तट और कोंकण की खूबसूरती , केरल का सौन्दर्य और राजनैतिक जागरूकता , अरब सागर – नदियों-मेघ और अरावली पर्वतमाला से बना वृष्टि-छाया प्रदेश ।

11 टिप्पणियां

Filed under activism आन्दोलन, gandhi, safarnama

भणसाळीकाका : ले. नारायण देसाई

एक बार काका ने सेवाग्राम – आश्रम का वर्णन ‘ गांधीजी का प्राणि – संग्रहालय’ ( गांधीजीज मिनाझरी)   इस शब्दों में किया था। बापू के आसपास हमेशा अजीब तरह के लोग जमा हो जाते थे । कभी – कभी सरदार कुछ पर चिढ़ भी जाते थे । काका हँसकर कहते थे , ‘ बापू तो डॊक्टर हैं,डॊक्टर के आसपास मरीज तो रहेंगे ही न ? ‘

    सारे आश्रमवासियों की सभी विचित्रताओं का वर्णन करने का मेरा इरादा नहीं है , और उतना सामर्थ्य भी नही है । साबरमती-आश्रम में एक सज्जन तो ऐसे थे कि गिनकर ५५ रोटियाँ खा जाते । भूल से ५४ रखी गयी हों तो जोर से चिल्लाकर कहते , ‘ तुम कैसे कंजूस हो ! हमें भूखा मारना है ?’ और गलती से ५६ रोटियाँ परोसी जाँय तो तपाक से कहते , ‘ वाह तुमने क्या हमको राक्षस समझ रखा है ?’ इस तरह इनकी हालत भूखे मरनेवाले आदमी और राक्षस के बीच की पतली दीवार जैसी थी ।

    दूसरे एक सज्जन सेवाग्राम-आश्रम में ऐसे थे , जिनके साथ मेरा निम्न संवाद हुआ –

    ‘ क्योंजी , आजकल क्या प्रयोग चल रहा है ? ‘

    ‘ प्रयोग तो हमारा कुछ-न-कुछ चलता ही रहता है । आजकल पानी का प्रयोग चल रहा है ।’

    ‘ क्या पानी उबालकर पीते हैं ‘ या जल-चिकित्सा चल रही है ? ‘

    ‘ नहीं भैया , खाने-पीने के प्रयोग के सम्बन्ध में चर्चा नहीं कर रहा । इस बार तो शौच के पानी का प्रयोग है । ‘

    ‘ यानी ? ‘

    ‘ यानी शौच के लिए जो पानी व्यवहार करते हैं , वह कैसे कम हो इसका प्रयोग कर रहा हूँ । ‘

    ‘ अच्छा ! ‘

    ‘ हाँ , घटाते – घटाते पाँच तोले तक पहुँचा हूँ । अपने देश के अनेक भागों में पानी की बड़ी कमी रहती है । इसमें अगर हम पानी बचा सकें तो …’

    मैंने अपनी बालसुलभ उद्दंडता का लाभ लेकर उस भाई की बात बीच में ही काटकर कहा , ‘ हाँ , बैलों को तो पानी की जरूरत ही नहीं पड़ती । ‘

    सेवाग्राम के आश्रमवासियों की ऐसी सारी विचित्रताओं के बावजूद एक बात उन सबमें समान थी, बापू के प्रति भक्ति । इसी एक तत्त्व के कारण वे आश्रम में टिक सके । इसी तत्त्व के परिणामस्वरूप सब आश्रमवासियों में एक परिवार-भावना का उदय हुआ और वह भावना वृद्धिंगत होती गयी । आज भी एक-दूसरे से बहुत दूर गए हुए दो आश्रमवासी दीर्घ अवधि के बाद जब भी मिलते हैं , तब अलग पड़े हुए स्वजन बहुत दिनों के बाद मिलने पर जिस आत्मीयता का और प्रेम का अनुभव करते हैं , वैसा ही अनुभव ये आश्रमवासी करते हैं ।

    विचित्रताओं के साथ – साथ हरएक आश्रमवासी की विशेषता भी कम नहीं थीं । इनमें से कुछ लोगों के साथ रहने का मौका मिलना एक अपूर्व सौभाग्य ही था । ये आश्रमवासी स्वतन्त्रता की लड़ाई में बापू की वानर-सेना के सिपाही थे और शिवजी की बारात जैसे थे ।

    यहाँ एक ऐसे व्यक्ति के सम्बन्ध में लिखूँगा , जो विचित्रता के साथ – साथ विशेषताओं से भी परिपूर्ण थे । वैसे वे खुद छिपकर रहनेवालों में से थे लेकिन इतिहास में कम-से-कम एक बार तो उन्होंने ब्रिटिश सरकार को हिला दिया था । वे व्यक्ति हैं आचार्य भणसाळी । हम सबके लाड़ले भण्साळीकाका ।

     एक दृश्य । किला सोनगढ़ गाँव का एक सुनसान मकान । उसमें आधा पागल और आधा साधु जैसा दीखनेवाला एक आदमी पड़ा था । एक समाजसेवक वहाँ पहुँचा ।

    ‘ ओहो ! भणसाळीभाई ! आपकी यह हालत ? ‘ जवाब में भणसाळीकाका ने सप्त स्वर में अट्टहास किया । लेकिन मुँह से एक शब्द भी नहीं बोले । समाज-सेवक ने उनके दोनों पाँवों के तलवों से बीस-बीस,पचीस -पचीस काँटे निकाले । उनके जख्मों को धोकर ,पीप निकालकर साफ कर दिया । ‘ यहाँ कुछ दिन आराम करो । ‘ समाज-सेवक ने विनती की । लेकिन साधु तो चलता ही भला । फिर पाँवों में से काँटे भी तो निकल चुके थे ।

    ‘ लेकिन आप बोलते क्यों नहीं ? ‘ कागज – पेन्सिल लेकर भणसाळीकाका ने लिख दिया , ‘ बारह साल का मौन लिया है । ‘

    ‘ बारह साल ! ‘

    भणसाळीकाका के पास छोटा आँकड़ा कभी था ही नहीं । प्रथम बार अनशन किया ४० दिनों का । दूसरी बार किया ५५ दिनों का और तीसरी बार किया आष्टी-चिमूर के अत्याचारों के निषेध में ६३ दिनों का देशविख्यात उपवास ।

    थोर की बाड पर से कूदने के प्रयोग के कारण उनके शरीर में फोड़े हो गये थे । भणसाळीकाका साबरमती-आश्रम से वर्धा के लिए निकले थे । ५५ दिनों के  अनशन  में मानसिक अस्थिरता आ गयी । फिर हिमालय तक पैदल सफर और और बारह वर्ष का मौन । देश की सही परिस्थिति का दर्शन उनको इस यात्रा में हुआ ।

    हिमालय से वापस आते समय राजस्थान के एक देहात में बैल जहाँ बाँधते हैं , ऐसे बाड़े में उनको ठहरने कि जगह मिली । रात में जानवर का पाँव लगा । भणसाळीकाका के मुँह से अचानक शब्द निकला ‘ कौन ? ‘ तुरंत उनके ध्यान में आ गया कि मौन टूटा। 

 फिर सोचने लगे कि कई ऐसी तरकीब करनी चाहिए कि रात में नींद में भी मौन न टूटे । तरकीब तो सूझी, लेकिन उसको अमल में लाने वाला तरीका  उनको मिला ध्रांगध्रा में । एक सुनार ने ताँबे का तार गरम करके लाल किया और भणसाळी्काका के दोनों होठों को सिल कर तार मोड़ दिया । भणसाळीकाका ने उस सुनार के उपकार माने। इसी सुनार ने प्रवाही पदार्थ मुँह में डालने के लिए एक फनेल भी बना दी । उन दिनों वे कच्चा आटा और कड़वे नीम के पत्ते खाते थे । आटा पानी में घोलकर चूस लेते थे । नीम की पत्तों को मुँह के कोने से अन्दर घुसा देते थे । साबरमती में आश्रम में बापू के साथ भेंट हुई , तब होठों के तार कटवा दिये । यह दूसरा दृश्य । ( अगली प्रविष्टी में जारी ) 

5 टिप्पणियां

Filed under gandhi, memoires

बापू की गोद में : कुछ चित्र

परचुरे शास्त्री की सेवा परपीड़ा

गांधीजी और महादेवठ??ई महादेवभाई और गांधीजी

7 टिप्पणियां

Filed under gandhi

बापू की गोद में : प्राक्कथन : दादा धर्माधिकारी

    श्री नारायण देसाई कि ‘संत सेवतां सुकृत वाधे’ मूल गुजराती में पढ़ी । एक अनूठी कलाकृति है । उसमें आत्मकथा की सजीवता और प्रतीति है , फिर भी अहन्ता का दर्प नहीं है । जिन घटनाओं और परिस्थियों का वर्णन इस छोटी-सी पुस्तक में है , उनके साथ लेखक का घनिष्ठ और प्रत्यक्ष सम्बन्ध रहा है । वह केवल एक तटस्थ प्रेक्षक नहीं रहा है । कई प्रसंगों में उसकी अपनी भूमिका भी महत्वपूर्ण है । परन्तु अन्य व्यक्तियों की भूमिका का चित्रण करने में उसने अपने को गौण स्थान ही दिया है । लेखक की सदभिरुचि का यह द्योतक है ।

     ‘मोहन और महादेव’ इस सुन्दर पुस्तक की दो विभूतियाँ हैं । ‘हरि-हर’ की तरह उनका विभूतिमत्त्व अविभाज्य है । अनेक घटनाओं और प्रसंगों के चित्रण में नारायणभाई ने उस विभूतिमत्त्व की जो झाँकियाँ दिखाई हैं , वे नितान्त मनोज्ञ हैं । ‘साबरमती’ और ‘सेवाग्राम’ आधुनिक भारत के विश्व-तीर्थ माने जाते हैं। वहाँ के आन्तरिक जीवन के जो दर्शन इस पुस्तक में कराये गये हैं , वे हृदयस्पर्शी हैं । नारायणभाई की भाषा में एक अन्लंकृत लावण्य है ।

    पृष्ठ २३ पर लेखक के मानस पर जो छाप पड़ी , उसकी उपमा उसने कृष्णपक्ष के नभोमण्डल से दी है । पुस्तक में करुण , उदात्त आदि रसों के साथ-साथ ऋजु और सौजन्ययुक्त विनोद की छटाएँ भी हैं , जो उसे अधिक चित्ताकर्षक बनाती हैं
लेखक की सहृदयता की छाप तो पृष्ट-पृष्ट पर है ।

    इस पुस्तक का हिन्दी-भाषान्तर हमारे मित्र श्री दत्तोबा दास्ताने ने किया है । दत्तोबा का ‘उपनयन’ पवनार के सन्त ने किया है । उनके जीवन में जो संस्कारिता और प्रगल्भता है , वह विनोबा के साथ दीर्घ-सहवास का परिपाक है। नारायणभाई को भाषान्तरकार भी समानशील मिले । पाठक की दृष्टि से यह बड़ा शुभ संयोग है। गांधी की विभूति की विविधता की झाँकी जो देखना चाहते हों , उनके लिए यह पुस्तक निस्सन्देह उपादेय है ।

शिवकुटी , माउण्टआबू

२० – १ – ‘६९                                                                  – दादा धर्माधिकारी

Technorati tags: ,

1 टिप्पणी

Filed under gandhi

बापू की गोद में : प्रकाशकीय

वर्षों पूर्व ‘जन्मभूमि’ गुजराती – पत्र में प्रतिसप्ताह ‘स्वातंत्र्य संग्रामनी गाथा’ स्तम्भ में श्री नारायणभाई ने बापू के सम्बन्ध में धारावाहिक रूप में संस्मरण लिखे थे , जो बाद में ‘संत सेवतां सुकृत वाधे’ शीर्षक से पुस्तकाकार में प्रकाशित हो गये । सौभाग्य से आज वे हिन्दी में रूपान्तरित होकर पाठकों के समक्ष उपस्थित हैं । २२ प्रकरणों की यह छोटी-सी पोथी गांधीजी के अनेक अनजाने अलौकिक गुणों पर प्रकाश डालती है । प्रस्तुत संस्मरणों की विशेषता श्री दादा धर्माधिकारी ने प्राक्कथन में लिपिबद्ध कर दी है । संस्मरण तो अनूठे हैं ही , लेखक की साहित्यिक प्रतिभा ने उन्हें रसाप्लुत भी बना दिया है ।

    गांधी – शताब्दी के शुभ -अवसर पर हमें इस पुस्तक के प्रकाशन का सुअवसर मिला था । अब हम इस पुस्तक का दूसरा संस्करण प्र्काशित कर यह आशा करते हैं कि पाठकों को प्रथम संस्करण की भाँति निश्चय ही यह रोचक और उद्बोधक सिद्ध होगा। गुजराती-भाषी जनता ने जिस प्रकार इस श्रेष्ठ रचना का आदर किया है , हम समझते हैं कि कि हिन्दी-भाषी जनता भी इसमें पीछे नहीं रहेगी । गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की कविता का हिन्दी-रूपान्तर करने में श्री भवानीप्रसाद मिश्र ने सहयोग दिया, अत: हम उनके आभारी हैं ।

         – सर्व सेवा संघ प्रकाशन , राजघाट , वाराणसी-२२१००१.

(जून १९९६)

    

3 टिप्पणियां

Filed under gandhi

बापू की गोद में : पुस्तक समर्पण

साबरमती नदी

और वर्धा की

हनुमान टेकड़ी

को

– नारायण.

Technorati tags: ,

1 टिप्पणी

Filed under gandhi

बापू की गोद में (२२) : अग्नि – परीक्षा

    आगा खाँ महल में जाने के बाद छह दिनों के अन्दर काका का स्वर्गवास हो गया । उनकी मृत्यु के बारे में सरकार की ओर से हम लोगों को कोई समाचार नहीं दिये गये थे । हम सेवाग्राम में हैं , यह जानकारी सरकार को थी , फिर भी रेडियो पर खबर सुनकर मित्रों ने दूसरे दिन यानी १६ तारीख को खबर दी , तब हमें जानकारी मिली । जेल में काका अचानक गुजर गये , इसके कारण देश में उनकी मृत्यु के सम्बन्ध में तरह – तरह की अफवाहें फैलीं। किसीने कहा , सरकार ने उनको विष दे दिया । किसीने कहा बिजली के शॊक दिये । हम जानते थे कि काका को हृदय – विकार था । और हम यह भी जानते थे कि बापू के उपवास को लेकर काका के मन पर चिन्ता का बड़ा भारी बोझ था  । इसलिए अफवाहों पर हमारा विश्वास नहीं था । मुझे और माँ को जीवन में एकमात्र काका का ही आधार था । हम दोनों की जो हानि हुई , वह किसी तरह भरनेवाली नहीं थी ।दोनों ने उनकी विरह – व्यथा दीर्घकाल तक सहन की थी । फिर भी हम दोनों में से किसीके मन में अंग्रेज सरकार के प्रति एक क्षण के लिए भी कड़वाहट की भावना उठी हो , ऐसा याद नहीं आता । मैं तो काका की मृत्यु जेल में हुई इस घटना के कारण मन में गर्व का अनुभव करता था । अंग्रेज सरकार के साथ की लड़ाई का ही यह एक अंग (पार्ट ओ दि गेम) मैंने माना । अहिंसक लड़ाई की यह खूबी थी ।

    काका की चिता जल रही थी तब बापू ने हमारे नाम एक तार भिजवाया था । उस तार की मूल प्रति तीन सप्ताह के बाद सेवाग्राम में पहुँचायी गयी । तार में लिखा था , ‘ महादेव को एक योगी और देशभक्त की मृत्यु प्राप्त हुई है – Mahadev died yogi’s patriot’s death । इस मजमून के कारण शायद तार पहुँचाने में देर की गयी होगी । सरकार की ओर से इतना ही कहा गया था कि ‘ हमारे ऒफ़िस की भूल के कारण देर हुई , उसके लिए हमें अफसोस है । ‘ इस स्पष्टीकरण के कारण मेरे मन में चिढ़ जरूर हो गयी थी ।

    इस समय बापू के पास जाने की हमने इजाजत माँगी । लेकिन इजाजत नहीं मिली । काका के शव का दाह – संस्कार कहाँ किया गया , इस सम्बन्ध में भी हमें किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गयी । उनकी भस्मी भी हमें नहीं दी गयी ।

    लेकिन काका का दाह – संस्कार आगा खाँ महल के आहाते में ही किया गया था , इसकी खबर हमें लग गयी थी । बापू हर रोज उस स्थान पर जाकर फूल चढ़ाकर आते हैं , यह भी जानकारी मिली थी । लेडी प्रेमलीला ठाकरसी की ‘ पर्णकुटी ‘ से दूरबीन द्वारा हर रोज वह दृश्य दिखाई देता था ।

    बापू ने जेल में उपवास शुरु किये , उस समय फिर से हमने उनके पास जाने की माँग की। उस समय जवाब मिला कि ‘ आप जाना चाहेंगे तो एक कैदी की तरह वहाँ रहना होगा , बाहर की दुनिया के साथ आपका सारा सम्पर्क बन्द कर दिया जायगा । ‘ हमने यह शर्त मंजूर की और मैं , मेरी माँ , और कनुभाई को आगा खाँ महल में जाने की इजाजत मिली ।

    आगा खाँ महल की चहारदीवारी के पास कँटीले तार की ११ फुट ऊँची बाड़ बनायी गयी थी। पूना शहर की तरफ के महल के हिस्से में लकड़ी की जाली लगा दी गयी थी । इसके अलावा महल के चारों ओर बन्दूकधारी संतरी चौबीस घन्टे खड़ा पहरा दे रहे थे ।

    बापू का पलंग महल के लम्बे बरामदे में बीचोबीच रखा हुआ था । हमने बापू के चरण छुए , तब मेरी माँ के छह महीनों से रोके हुए आँसुओं का बाँध फूट पड़ा । बापू ने कुछ बोलने की कोशिश की , लेकिन ‘ महादेव . . .’ इस एक शब्द का उच्चारण करते ही उनका गला भर आया । आँख से गंगा – जमना की धारा बहने लगी । उस दिन पहली बार बापू की आँखों में मैंने आँसू देखे । बापू के अनशन का वह सातवाँ दिन था । उनको कष्ट न हो , इस खयाल से मेरी माँ वहाँ से तुरन्त हट गयीं । इसके बाद इक्कीस दिन तक हम लोग आगा खाँ महल में रहे , लेकिन बापू के साथ शायद ही बोले होंगे । काका की रक्षा बापू ने सुरक्षित रखी थी , वह माँ के सिपुर्द की । शुरु में कुछ दिन वह रक्षा बापू अपने भाल-प्रदेश में लगाते थे , यह जानकारी प्यारेलालजी और सुशीलाबहन ने हमें दी ।

    प्यारेलालकाका के साथ मेरी हमेशा बात होती रहती थी । मुझे उस समय पता चला कि सन १९४२ की तोड़-फोड़ के लिए बापू का समर्थन नहीं था । लेकिन मैं तो प्रत्यक्ष में भले न हो , लेकिन मन से तोड़-फोड़ के पक्ष में था ।मैंने भी अँधेरी रात में खेतों में धारियावाले लोगों के गिरोह में शामिल होकर डाक-विभाग के डिब्बे जलाने की योजना बनायी थी । गिरोह में से एक व्यक्ति ने मुझसे रिवाल्वर की माँग की , तब मैं सचेत हो गया और उससे कहा कि अहिंसा में रिवाल्वर को स्थान नहीं है । किसी व्यक्ति के जान-माल को नुकसान नहीं पहुँचाना है , इतना ध्यान में रखकर बाकी सब कार्रवाइयाँ अहिंसा में बैठती हैं , ऐसा मैं भी मानता था । टेलीफोन के तार काटे जाने की खबर पाकर मुझे खुशी होती थी । ट्रेन की पटरियाँ उखाड़ी गयीं , यह सुनकर मैं गर्व से फूल उठा था । बिहार और बलिया में तोड़-फोड़ की वृत्ति के कारण थोड़े दिन तक वहाँ का शासन जनता के हाथ में आ गया था , यह सुनकर तो मेरी छाती गजभर फूली थी । मैंने भी नकाबपोश टोलियों के साथ सम्पर्क साधने का प्रयास किया था । बम्बई में कई मकानों में घूम-घूमकर मैं श्री अच्युत पटवर्धन से मिला था । वे उस समय भूमिगत थे । छिप-छिपकर मैं बुलेटिन भी निकालता था । और ये सारे काम मैं यह मानकर करता था कि मैं बापू के आदेश का पालन कर रहा हूँ । इसकी चर्चा मैंने प्यारेलालजी के साथ की । उन्होंने सारा किस्सा बड़े धीरज के साथ सुन लिया । केवल धीरज के साथ ही नहीं , बल्कि सहानुभूतिपूर्वक सुन लिया । फिर धीरे – धीरे समझाना शुरु किया कि किसी भी प्रकार के माल को नष्ट करने में कैसे हिन्सा है , गुप्तता अहिंसक आन्दोलन को कैसे नुकसान पहुँचाती है । सारी चर्चा में मुख्य बात यह थी कि सारी हिंसा का प्रारम्भ सरकार ने किया था , अनेक प्रकार के कार्यक्रमों के संकेत भी सरकार ने ही दिये थे और अंत में इस सारी हिंसा के लिए कांग्रेस जिम्मेवार है , यही सरकार मानती थी । इसलिए हमलोगों ने जो रास्ता सोचा था , वह गलत था , यह तो मैं समझ गया । लेकिन मेरे मन में विफलता की (frustration) की भावना नहीं थी । देश में जो गैर बातें हुईं वे गलत थीं , यह बापू ने कहा था । और देश को सही रास्ते पर लाने की उन्होंने कोशिश भी की थी । फिर भी देश-प्रेम की भावना से की गयी इन गलत कार्रवाइयों की बापू ने निन्दा नहीं की । इसीसे वे राष्ट्र के सामान्य नागरिकों को अपने साथ रख सके थे और उनको सही रास्ते पर ला सके थे ।

    आगा खाँ महल में काफी समय खाली रहता था , इसलिए मैंने वहाँ विक्टर ह्युगो के प्रसिद्ध उपन्यास ‘ ला मिज़रेबल ‘ का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ लिया । बापू ने यह सुना तो उनको थोड़ा आश्चर्य हुआ । शायद उनके मन में पुराने छोटे बाबला की ही प्रतिमा अब तक थी । उन्होंने मुझे अपने पास बुलाकर मेरा विशेष अभिनन्दन किया । मैं शरमा गया । प्यारेलालकाका ने बापू से कहा , ‘आप तो इसको बिलकुल बच्चा समझते हैं ।लेकिन यह तो मेरे साथ देश के प्रश्नों की चर्चा करता है । इतने दिनों में अहिंसा का बहुत सारा विवेचन इसने मेरे साथ किया । ‘ मैं और भी शरमा गया ।

    बापू ने कहा , ‘ यह तो मैं जानता ही था । बचपन से ही इसे बहस करने की आदत है । मुझे तो इसके अंग्रेजी ज्ञान के बारे में आश्चर्य हुआ। और अहिंसा की बात निकली है तो इतना कह देता हूँ कि अहिंसाविषयक मेरे विचारों में भी विकास हुआ है । एक जमाना था , जब मैं मानता था कि देश में कहीं भी हिंसा हुई तो वह समय अहिंसा के प्रयोग के लिए अनुकूल नहीं है। आज तो मैं मानता हूँ कि सच्ची अहिंसा की ज्योति ऐसी होगी कि उसके चारों ओर हिंसा की तूफानी हवा बहती हो तो भी वह जलती रहेगी । ‘

    उपवास के समय एक नेता ने बापू से कहा था , ‘ आपकी मृत्यु होने पर देश में जो प्रचंड ज्वाला भड़केगी , उसे दबाने के लिए सरकार ने टैंक तैयार रखे हैं । ‘

    उपवास के बारहवें या तेरहवें दिन बापू बड़ी नाजुक अवस्था में से गुजरे थे । उस दिन उनके गले के नीचे पानी भी नहीं उतर रहा था । ऐसी अवस्था हो जाय तो नारंगी या ऐसे खट्टे फलों (साइट्रिक फ्रूट) का रस पानी में घोलकर पीने की छूट उपवास के प्रारम्भ में बापू ने जाहिर कर दी थी । पानी में संतरे का रस ४-५ चम्मच घोलकर वह गले के नीचे उतर जाय , ऐसा बनाकर बापू को दिया गया ।

    लेकिन सरकार ने इस प्रसंग का दुरुपयोग करने की ठानी । हर रोज बापू का वजन लिया जाता था । इस प्रसंग के दूसरे दिन वजन लिया गया ,तो एकाएक ४ पौंड वजन बढ़ा हुआ पाया । सरकार इसीकी राह देख रही थी कि उपवास के समय खुराक ली है , यह कैसे सिद्ध किया जाय । डॊ. सुशीलाबहन इस मामले में बहुत सतर्क थीं । उन्होंने कहा , ‘यह असम्भव है। जरूर कुछ दाल में काला है ।’  फिर उसी काँटे पर मेरा वजन करके देखा गया तो वह भी ४ पौंड अधिक पाया गया ।फिर एक-एक करके सबका वजन देखा गया और सबका वजन ४ पौंड बढ़ा हुआ मिला । इस प्रकार बापू की फजीहत करने पर तुली हुई बेमुरव्वत सरकार का साथ यांत्रिक काँटे ने नहीं दिया । वह सरकार से अधिक निष्पक्ष था । उसने अपनी भूल की पोल खुद ही खोल दी ।

   

     

Technorati tags: ,

1 टिप्पणी

Filed under gandhi

बापू की गोद में (२१) : ९ अगस्त , १९४२

    ८ अगस्त सन १९४२ की रात को बम्बई के बिरला हाउस में दो प्रकार की राय व्यक्त की जा रही थी । उस दिन शाम को ‘ भारत छोड़ो ‘ के प्रस्ताव पर बापू कांग्रेस – महासमिति की बैठक में भाषण कर चुके थे । काका का अभिप्राय था कि सारे राष्ट्र मे बिजली का संचार करानेवाले बापू के इस भाषण के बाद सरकार उनको अधिक दिन बाहर नहीं रहने देगी । उसी रात वे पकड़े जायेंगे । बापू ने अपने भाषण में वाइसराय को पंद्रह दिन का समय दिया था । उन्होंने कहा था कि वे वाइसराय को अन्तिम पत्र लिखेंगे और १५ दिन के अन्दर उनकी ओर से अनुकूल उत्तर नहीं मिला तो वे ‘ भारत – छोड़ो ‘- आन्दोलन छेड़ देंगे । बापू की राय थी कि सरकार उनको पंद्रह दिन तक नहीं पकड़ेगी । बापू जिस सरकार के लिए भारत से चले जाने का आवाहन कर चुके थे , उसके प्रतिनिधि की ओर से अभी भी उनको इतनी आशा थी कि पंद्रह दिन की मर्यादा वे नहीं तोड़ेंगे ।

    सभा से लौट कर बिरला हाउस में बापू ने प्रार्थना की ।प्रार्थना के बाद वे निश्चिंत मन से गाढ़ निद्रा में सो गये । केवल दो व्यक्तियों को नींद नहीं आ रही थी – कस्तूरबा और महादेवभाई। मेरा और काका का बिछौना पास-पास था ।बिरला हाउस की बड़ी घड़ी ने रात का का एक बजाया ।

    ‘ कितने बजे महादेव ? ‘ कस्तूरबा ने पूछा ।

    ‘ एक बजा है बा । ‘

    ‘ तुमको क्या लगता है ? बापू को पकड़ेंगे ? ‘

    ‘ मुझे तो ऐसा ही लगता है । लेकिन बापू मानते हैं कि उनको नहीं पकड़ा जायगा । मन तो यही कहता है कि अ. भा. कंग्रेस-कमेटी के भाषण के बाद सरकार उनको बाहर नहीं रहने देगी । लेकिन कह नहीं सकते । बहुत दफ़ा बापू की बुद्धिगम्य न होनेवाली बातें सही निकलती हैं । इस समय भी वैसा नहीं होगा , ऐसा कौन कह सकता है ? ‘

    मैं बीच – बीच में झपकी ले लेता था और घड़ी के ठोके सुनकर बीच में जाग पड़ता था ।

    दो . . . तीन . . . चार !

    क्स्तूरबा और काका सारी रात जागकर इसी विषय में बात करते रहे थे । चार बजे काका ने कहा , ‘ बा , अब तो बापू की ही बात सही निकलेगी , ऐसा लगता है । बम्बई की पुलिस को आधी रात में चोर की तरह आकर गिरफ्तार करने की आदत है । अब तो सुबह हो रही है । अब शायद उनको नहीं पकड़ेंगे । लेकिन सरदार को तो अवश्य पकड़ा होगा ।सरदार का कल का भाषण ऐसा तीखा था कि सरकार उनको एक क्षण के लिए भी बाहर रहने देने को तैयार नहीं होगी । चलो सरदार के घर पर फोन करके खबर पूँछेंगे। फोन नहीं लगा । लाइन काट दी गयी थी । पड़ोस के बँगले में फोन करने स्वामी आनन्द बाहर गये ही थे कि फाटक से ही वापस आकर उन्होंने खबर दी कि ‘ वे आ गये । यजमान आ पहुँचे हैं । ‘

    बापू को पकड़ने के लिए वारंट का जो कागज पुलिसवाले लाये थे , वह कुछ अजीब ढंग का था । उसमें बापू , मीराबहन और काका को पुलिस-इन्स्पेक्टर के साथ जाने का ( यानी गिरफ्तारी का ) हुक्म था । लेकिन बा और प्यारेलालजी के लिए उस कागज में विचित्र फ़रमान था । लिखा था कि ये लोग बापू के साथ आना चाहें तो आ सकते हैं , लेकिन न आना हो तो उनको छूट है ।

    यह जेल – यात्रा आखिर की है , यह अंदज़ सबको ही हो गया था । अंतिम जेल – यात्रा में बापू के साथ रहने का मौका मिल रहा है , यह देखकर मीराबहन खुश हो रही थीं । लेकिन बा के सामने धर्मसंकट खड़ा हो गया । बा ने बापू से पूछा , ‘ इस हुक्म का अर्थ क्या है ? ‘

    बापू ने अर्थ समझाकर पूछा , ‘ तुम्हारी क्या इच्छा है ? ‘

    बा ने कहा , ‘ आप ही कह दीजिये न ! ‘

    बापू ने कहा , ‘ मेरी इच्छा पूछती हो तो मैं चाहूँगा कि अभी मेरे साथ चलने के बदले शिवाजी पार्क में मेरे लिए जो सभा रखी गयी है , उस सभा में मेरी ओर से तुम भाषण करो और स्वतंत्र रूप से पकड़ ली जाओ तो अच्छा होगा । लेकिन मेरे साथ चलने की इच्छा हो तो मैं मना नहीं करूँगा ।तुम्हें अलग से पकड़ने पर सरकार मेरे साथ तुम्हें न रखे , यह भी संभव है । यह सब सोचकर निर्णय करना चाहिए । ‘

    बा के सामने कठिन पेंच खड़ा हुआ । एक तरफ सारी जिन्दगी का सवाल था । जेल में बापू जिन्दा रहेंगे या नहीं , इसमें भी शंका थी । फिर से बापू से भेंट हो सकेगी या नहीं , यह भी अनिश्चित था । दूसरी तरफ बापू की इच्छा का प्रश्न था ।

    लेकिन इस प्रसंग को लिखने में मुझे जितना समय लगा , उतना भी बा को निर्णय करने में नहीं लगा । उन्होंने तुरंत गम्भीर स्वर में कहा , ‘ मेरी इच्छा पूछोगे तो इस समय आपके साथ रहना मैं पसन्द करूँगी , लेकिन उससे भी अधिक आपकी इच्छा पूरी करना मुझे अच्छा लगेगा , इसलिए रुक जाती हूँ । ‘

    मैं तो अवाक होकर इस सती की ओर देखता ही रह गया ! त्रेता-युग में राम और सीता के वियोग का प्रसंग आया , तब राम ने सीता को जंगल में साथ चलने के बदले महल में ही रुक जाने का आग्रह किया था , लेकिन सीता ने राम का साथ नहीं नहीं छोड़ा था । कलिकाल में बापू कस्तूरबा से किसी प्रकार का आग्रह नहीं करते । निर्णय भी उन्हीं पर छोड़ते हैं । और चमत्कार यह कि बा को बापू की इच्छा पूरी करने के लिए उनसे दूर रहना पसन्द है ।

    मैंने काका का सामान बाँधना शुरु किया । मैं कई बार काका से कहता था , ‘ काका , आप कुछ मौलिक साहित्य तो लिखते ही नहीं । जो लिखते हैं , वह बापू के भाषणों की रिपोर्ट या किसी पुस्तक का अनुवाद । ‘ काका हँसकर जवाब देते , ‘ मौलिक साहित्य तू लिख। ‘ कभी कहते थे कि पाँच – छह उपन्यासों की कथावस्तु मन में तैयार है । कभी लम्बे समय की फुरसत मिलेगी , तो लिखा जायगा । गुरुदेव टैगोर की ‘गीतांजलि’ के सभी गीतों का मूल छंद में गुजराती अनुवाद करने की भी इच्छा थी । अंतिम बार जब शांतिनिकेतन गये थे , तब कुछ गीतों की धुन सुन कर आये थे । मैं यह सब जानता था , इसलिए सन १९४२ की लड़ाई के आसार दिखायी देने लगे , तब से बंगला गीतांजलि की एक प्रति और लिखने के लिए पाँच-छह कोरे कागज पैड मैं हमेशा साथ रखता था । वह इस समय ले आया और काका से पूछा कि ‘ सामान के साथ यह भी बाँध दूँ न ? अब तो आपको फुरसत मिलेगी । ‘

    लेकिन काका को उत्साह नहीं था । उन्होंने कहा , ‘ कुछ भी सामान साथ में मत दो । बापू के उपवास की बात डेमोक्लीस की तलवार की तरह मेरे सिर पर लटक रही है । इस समय बापू अनशन करेंगे तो सरकार शायद उनको मरने देगी । यह सब देखने के लिए मैं जिन्दा नहीं रहूँगा । मैं जेल में एक सप्ताह तक भी जिन्दा रह सकूँगा या नहीं , कह नहीं सकता । तू किसी प्रकार की लेखन – सामग्री साथ मत दे । ‘

    मैंने कहा : ‘ आप ऐसा कुछ मत बोलिये । ‘ काका ने कुछ जवाब नहीं दिया ।

    पुलिस-इन्स्पेक्टर देसाई के साथ निकलने से पहले बापू ने प्रार्थना की । सारे वातावरण में एक बिजली-सी थी । बापू ने कह दिया था कि उनके पकड़े जाने के बाद हरएक भारतवासी अपना नेता है , ऐसा समझकर अहिंसा का विचार ध्यान में रखकर आन्दोलन जारी रखे । यह आन्दोलन अल्पकालीन , लेकिन गतिमान ( शार्ट एण्ड स्विफ़्ट) होगा , ऐसा इशारा भी बापू ने दिया था । इसलिए हम सबके मन में एक अजीब उत्साह था ।

    पुलिस-इन्स्पेक्टर की गाड़ी में सब बैठे । काका बैठने जा रहे थे , तब मैंने कहा : ‘ अब तो स्वतंत्र भारत में मिलेंगे । ‘

    इसके जवाब में काका ने मुझे चूम लिया ।

यह उनका अंतिम चुम्बन था ।

Technorati tags: ,

2 टिप्पणियां

Filed under gandhi