अब एक्स्प्लोरर पर भी अन्तर्ध्यान होना मुमकिन

इन्टरनेट एक्स्प्लोरर पर चैटियाने के लिए गूगल चैट का प्रयोग करने वालों के लिए अन्तर्ध्यान होना मुमकिन हो गया है । ऐसा अब तक मोज़िला का ब्राउज़र इस्तेमाल करने वालों के लिए ही सम्भव था । यानी , यदि आप अदृश्य हो जाएंगे तब जब तक आप नहीं चाहेंगे कोई चैटियाने के लिए टपक न सकेगा । आप खुद ऑनलाइन मित्रों को चौंका सकते हैं , अन्तर्ध्यान अवस्था से प्रकट हो कर । 

     जी – मेल का प्रयोग करने वाले बाँए हाशिए पर खुद के नाम के बगल में Status menu [ यह(Status menu) खुद के नाम के बगल में बने नन्हें त्रिकोण पर कर्सर ले जाने पर लिखा हुआ प्रकट होता है ] खोलें अथवा नाम के बगल में माउस को दाहिना खटका मारेंगे तो ‘invisible’ अथवा ‘अदृश्य’ अथवा ‘अन्तर्ध्यान’ होने का प्रावधान मिल जाएगा ।

    वैसे अन्तर्ध्यान मित्र जब अचानक प्रकट होते हैं तब मुझे तो तनिक क्रोध-सा ही आ जाता है । लगता है , ‘ हम मानुस और ये देवता ! ‘ अथवा ‘ टपक गए गोपीचन्द जासूस ! ‘

   अन्तर्ध्यान होने की सुविधा के बारे में आपके क्या विचार हैं ? बिना आजमाये भी आप कल्पना कर सकते हैं ।

6 टिप्पणियाँ

Filed under chat

6 responses to “अब एक्स्प्लोरर पर भी अन्तर्ध्यान होना मुमकिन

  1. हमे तो ज्यादा पता नही है इस सबके बारे मे पर जानकारी अच्छी है। :

  2. ठीक है
    अब ध्‍यान
    लगाना मुमकिन
    हो सकेगा।

  3. अरे हां
    वाह वाह
    एक फुलथ्रू है तो
    वास्‍तव में
    बढि़या है
    जादू की डिबिया
    है।
    पर इससे
    दूसरे ऑनलाईन
    नजर नहीं आते
    हैं।

  4. अन्तर्ध्यान होने की सुविधा खुद को मिले तो अच्छी लगती है, दूसरे को मिले तो बुरी।

  5. हम भी अक्सर देवता बने आप मानुष को देखते रहते हैं. :)

    ——————————————–

    निवेदन

    आप लिखते हैं, अपने ब्लॉग पर छापते हैं. आप चाहते हैं लोग आपको पढ़ें और आपको बतायें कि उनकी प्रतिक्रिया क्या है.

    ऐसा ही सब चाहते हैं.

    कृप्या दूसरों को पढ़ने और टिप्पणी कर अपनी प्रतिक्रिया देने में संकोच न करें.

    हिन्दी चिट्ठाकारी को सुदृण बनाने एवं उसके प्रसार-प्रचार के लिए यह कदम अति महत्वपूर्ण है, इसमें अपना भरसक योगदान करें.

    -समीर लाल
    उड़न तश्तरी

  6. पिंगबैक: इस चिट्ठे की टोप पोस्ट्स ( गत चार वर्षों में ) « शैशव

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s