बेतरतीब आवरगी

img_0149.jpgimg_0148.jpgimg_0148.jpgimg_0147.jpgइस बगीचे की क्यारियों में इस बार एक गजब की बेतरतीब आवरगी पसरी हुई है । ‘अंतर्गृही – यात्रा’ कर रही महिलाएं चन्दन शहीद और आदि केशव के बीच वरुणा-गंगा के संगम की रेत पर जैसे अपनी चटक रंगों की साड़ियाँ दूर-दूर तक फैला देती हैं ।

    यह छोटी कलमी ‘आम्रपाली’ भी पहली बार यूँ बौराई है ।

5 टिप्पणियाँ

Filed under bagiya

5 responses to “बेतरतीब आवरगी

  1. इसी को नैसर्गिक सौन्दर्य कहते हैं । स्वास्थ्य लाभ के लिए इससे सुन्दर और सही जगह कौन सी हो सकती है !
    घुघूती बासूती

  2. काश ऐसे बगीचों के आसपास रहने का आनंद मिल पाता!!!

  3. kya baat hai sir , aapkee post ne to hamare jeevan mein hariyaalee aur rangeeniyon ko badhaa diya.

  4. आभा

    ऐसी फुलवारी देख देख कर जल्दी से जल्दी स्वस्थ्य हो जाइए ….मंगलकामनाएं।

  5. पिंगबैक: इस चिट्ठे की टोप पोस्ट्स ( गत चार वर्षों में ) « शैशव

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s