नल की हडताल

आज सुबह से नल था मौन्,
पता नहीं कारण था कौन ?
मैंने पूछा तनिक पास से ,
भैय्या दिखते क्यों उदास से ?
बोला , ‘क्या बतलाऊं यार ,
रोज सहन सहन करता हूं मार .
कान ऐंठता जो भी आता ,
टांग बाल्टी मुझे सताता .
लडते मेरे पास खडे हो ,
बच्चे हों या मर्द बडे हों .
नहीं किसी को दूंगा पानी !
इसीलिए हडताल मनानी !

पास रखी तब बोली गागर ,
‘ हम हैं रीते,तुम हो सागर ,
जल्दी प्यास बुझाओ मेरी ,
सोच रहे क्या ? कैसी देरी ?

नल को दया घडे पर आई,
पानी की झट धार बहाई ..
(कवि- अज्ञात,किसी को पता हो तो जरूर बताए.)

Advertisements

4 टिप्पणियाँ

Filed under nursery rhymes , kids' poetry

4 responses to “नल की हडताल

  1. कविता कभी पढ़ी तो नहीं, पर बच्चों की कविता जब भी पढ़ते हैं मानो बचपन आँखोंके सामने सजीव हो जाता है।
    बहुत अच्छी कविता/ कवितायें है।

  2. पिंगबैक: इस चिट्ठे की टोप पोस्ट्स ( गत चार वर्षों में ) « शैशव

  3. रचयिता का नाम तो नही मालूम किंतु बड़ी ही अच्छी कविता साझा करने का आभार .

  4. पिंगबैक: दोनों मूरख , दोनों अक्खड़ / भवानीप्रसाद मिश्र | शैशव

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s