सूरज का गोला ; भवानी प्रसाद मिश्र

सूरज का गोला,

इसके पहले ही कि निकलता,

चुपके से बोला,हमसे – तुमसे इससे – उससे

कितनी चीजों से,

चिडियों से पत्तों से ,

फूलो – फल से, बीजों से-

” मेरे साथ – साथ सब निकलो

घने अंधेरे से

कब जागोगे,अगर न जागे , मेरे टेरे से ?”

आगे बढकर आसमान ने

अपना पट खोला ,

इसके पहले ही कि निकलता

सूरज का गोला .

फिर तो जाने कितनी बातें हुईं,

कौन गिन सके इतनी बातें हुईं ,

पंछी चहके कलियां चटकीं ,

डाल – डाल चमगादड लटकीं

गांव – गली में शोर मच गया ,

जंगल – जंगल मोर नच गया .

जितनी फैली खुशियां ,

उससे किरनें ज्यादा फैलीं,

ज्यादा रंग घोला .

और उभर कर ऊपर आया

सूरज का गोला ,

सबने उसकी आगवानी में

अपना पर खोला .

               – भवानी प्रसाद मिश्र .

3 टिप्पणियाँ

Filed under nursery rhymes , kids' poetry

3 responses to “सूरज का गोला ; भवानी प्रसाद मिश्र

  1. भवानी बाबू
    या बोले भगवन
    बच्चों सा मन …

  2. पिंगबैक: दोनों मूरख , दोनों अक्खड़ / भवानीप्रसाद मिश्र « शैशव

  3. पिंगबैक: इस चिट्ठे की टोप पोस्ट्स ( गत चार वर्षों में ) « शैशव

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s